Category Archives: Poetry Collection

वीर तुम बढ़े चलो – द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

वीर तुम बढ़े चलो! धीर तुम बढ़े चलो!

हाथ में ध्वजा रहे बाल दल सजा रहे
ध्वज कभी झुके नहीं दल कभी रुके नहीं
वीर तुम बढ़े चलो! धीर तुम बढ़े चलो!

सामने पहाड़ हो सिंह की दहाड़ हो
तुम निडर डरो नहीं तुम निडर डटो वहीं
वीर तुम बढ़े चलो! धीर तुम बढ़े चलो!

प्रात हो कि रात हो संग हो न साथ हो
सूर्य से बढ़े चलो चन्द्र से बढ़े चलो
वीर तुम बढ़े चलो! धीर तुम बढ़े चलो!

एक ध्वज लिये हुए एक प्रण किये हुए
मातृ भूमि के लिये पितृ भूमि के लिये
वीर तुम बढ़े चलो! धीर तुम बढ़े चलो!

अन्न भूमि में भरा वारि भूमि में भरा
यत्न कर निकाल लो रत्न भर निकाल लो
वीर तुम बढ़े चलो! धीर तुम बढ़े चलो!

———–  द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

Advertisements

हवा हूँ, हवा मैं बसंती हवा हूँ!

images (4)basanti1

–  केदारनाथ अग्रवाल

कोशिश करने वालों की – हरिवंशराय बच्चन

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है।
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है।
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है।
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में।
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो।
जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम।
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

Maan Dua Karti Hui Khwaab Mein Aa Jaati Hai

Labo Par Uske Kabhi Baddua Nahi Hoti
Bas Ek Maan Hai Jo Kabhi Khafa Nahi Hoti

Is Tarah Mere Gunaahon Ko Wo Dho Deti Hai,
Maa Bahut Gusse Mein Hoti Hai To Ro Deti Hai

Maine Rote Hue Ponchhe The Kisi Din Aansoo
Muddaton Maa Ne Nahi Dhoya Dupatta Apna

Abhi Zinda Hai Maa Meri Mujhe Kuchh Bhi Nahi Hoga,
Main Jab Ghar Se Nikalta Hoon Dua Bhi Saath Chalti Hai

Jab Bhi Kashti Meri Sailaab Mein Aa Jaati Hai
Maa Dua Karti Hui Khwaab Mein Aa Jaati Hai

Aye Andhere Dekh Le Munh Tera Kaala Ho Gaya,
Maa Ne Aankhein Khol Di Ghar Mein Ujaala Ho Gaya

Meri Khwaahish Hai Ki Main Phir Se Farishta Ho Jaun
Maan Se Is Tarah Liptun Ki Bachcha Ho Jaun

‘Munawwar’ Maa Ke Aage Yun Kabhi Khulkar Nahi Rona
Jahan Buniyaad Ho Itni Nami Achhhi Nahi Hoti

Lipat Jaata Hoon Maa Se Aur Mausi Muskurati Hai,
Main Udru Mein Ghazal Kehta Hoon Hindi Muskrati Hai

वीर तुम बढ़े चलो – द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

वीर तुम बढ़े चलो ! धीर तुम बढ़े चलो !

हाथ में ध्वजा रहे बाल दल सजा रहे
ध्वज कभी झुके नहीं दल कभी रुके नहीं
वीर तुम बढ़े चलो ! धीर तुम बढ़े चलो !

सामने पहाड़ हो सिंह की दहाड़ हो
तुम निडर डरो नहीं तुम निडर डटो वहीं
वीर तुम बढ़े चलो ! धीर तुम बढ़े चलो !

प्रात हो कि रात हो संग हो न साथ हो
सूर्य से बढ़े चलो चन्द्र से बढ़े चलो
वीर तुम बढ़े चलो ! धीर तुम बढ़े चलो !

एक ध्वज लिये हुए एक प्रण किये हुए
मातृ भूमि के लिये पितृ भूमि के लिये
वीर तुम बढ़े चलो ! धीर तुम बढ़े चलो !

अन्न भूमि में भरा वारि भूमि में भरा
यत्न कर निकाल लो रत्न भर निकाल लो
वीर तुम बढ़े चलो ! धीर तुम बढ़े चलो

कबीर के दोहे

चाह मिटी, चिंता मिटी मनवा बेपरवाह ।
जिसको कुछ नहीं चाहिए वह शहनशाह॥

माटी कहे कुम्हार से, तु क्या रौंदे मोय ।
एक दिन ऐसा आएगा, मैं रौंदूगी तोय ॥

माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर ।
कर का मन का डार दे, मन का मनका फेर ॥

तिनका कबहुँ ना निंदये, जो पाँव तले होय ।
कबहुँ उड़ आँखो पड़े, पीर घानेरी होय ॥

गुरु गोविंद दोनों खड़े, काके लागूं पाँय ।
बलिहारी गुरु आपनो, गोविंद दियो मिलाय ॥

सुख मे सुमिरन ना किया, दु:ख में करते याद ।
कह कबीर ता दास की, कौन सुने फरियाद ॥

साईं इतना दीजिये, जा मे कुटुम समाय ।
मैं भी भूखा न रहूँ, साधु ना भूखा जाय ॥

धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय ।
माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय ॥

कबीरा ते नर अँध है, गुरु को कहते और ।
हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रूठे नहीं ठौर ॥

माया मरी न मन मरा, मर-मर गए शरीर ।
आशा तृष्णा न मरी, कह गए दास कबीर ॥

रात गंवाई सोय के, दिवस गंवाया खाय ।
हीरा जन्म अमोल था, कोड़ी बदले जाय ॥

दुःख में सुमिरन सब करे सुख में करै न कोय।
जो सुख में सुमिरन करे दुःख काहे को होय ॥

बडा हुआ तो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर।
पंथी को छाया नही फल लागे अति दूर ॥

साधु ऐसा चाहिए जैसा सूप सुभाय।
सार-सार को गहि रहै थोथा देई उडाय॥

साँई इतना दीजिए जामें कुटुंब समाय ।
मैं भी भूखा ना रहूँ साधु न भुखा जाय॥

जो तोको काँटा बुवै ताहि बोव तू फूल।
तोहि फूल को फूल है वाको है तिरसुल॥

उठा बगुला प्रेम का तिनका चढ़ा अकास।
तिनका तिनके से मिला तिन का तिन के पास॥

सात समंदर की मसि करौं लेखनि सब बनराइ।
धरती सब कागद करौं हरि गुण लिखा न जाइ॥

साधू गाँठ न बाँधई उदर समाता लेय।
आगे पाछे हरी खड़े जब माँगे तब देय॥

Janatantra Ka Janm – Ramdhari Singh Dinkar

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती – Surya Kant Tripathi “Nirala”

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है ।

मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है ।

आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है ।

मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में ।

मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो ।

जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम ।

कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

Rashmirathi “Krishna Kee Chetavani” – Ramdhari Singh Dinkar

Varsho tak van me ghoom-ghoom
Baadhaa vighno ko choom-choom
Sah dhoop gham pani patthar
Pandav aaye kuchh aur nikhar

Saubhaagya na sab din hota hai
Dekhe aage kya hota hai

Maitri ki raah dikhaane ko
Sab ko sumaarg pe laane ko
Duryodhan ko samjhaane ko
Bheeshan vidhwans bachaane ko

Bhagwan hastinapur aaye
Pandav ka sandesha laaye

Do nyay agar to aadha do
Par isme bhi yadi baadha ho
To de do kewal paach gram
Rakho apni dharti tamaam

Hum vahi khushi se khaayenge
Parijan pe asi na uthayenge

Duryodhan woh bhi de na saka
Aashish samaaj ki le na saka
Ulte hari ko baandhne chala
Jo tha asaadhya saadhne chala

Jab naash manuj par chhaata hai
Pehle vivek mar jata hai

Hari ne bheeshan hoonkaar kiya
Apna swaroop vistar kiya
Dagmag-Dagmag diggaj dole
Bhagwan kupit hokar bole

Janjeer badhaa ab saadh mujhe
Haan haan duryodhan baandh mujhe

Yeh dekh gagan mujhme lay hai
Yeh dekh pawan mujhme lay hai
Mujhme wilin jhankaar sakal
Mujhme lay hai sansaar sakal

Amaratva phoolta hai mujh mein
Sanhaar jhoolta hai mujh mein

Udayachal mere dipt bhaal
Bhu-mandal vaksh-sthal vishaal
Bhuj paridhi bandh ke ghere hain
Mainaak meru pag mere hain

Dipte jo grah nakshatra nikar
Sab hain mere mukh ke andar

Drig ho to drishya akaand dekh
Mujhme saara brahmaand dekh
Char-achar jeev, jag kshar akshar
Nashwar manushya, surjati amar

Shat koti surya, shat koti chandra
Shat koti sarit shat sindhu mandra

Shat koti brahma vishnu mahesh
Shat koti jalpati jishnu dhanesh
Shat koti rudra, shat koti kaal
Shat koti dand dhar lokpaal

Janjeer badhaa kar saadh inhe
Haan haan duryodhan baandh inhe

Bhutal atal paatal dekh
Gat aur anagat kaal dekh
Yeh dekh jagat ka aadi srijan
Yeh dekh mahabhaarat ka rann

Mritako se pati hui bhu hai
Pahchaan kahan isme tu hai?

Ambar ka kuntal jaal dekh
Pad ke niche paatal dekh
Mutthi mein tino kaal dekh
Mera swaroop vikraal dekh

Sab janm mujhi se paate hain
Phir laut mujhi mein aate hain

Jihwa se kadhti jwaal saghan
Saanso se paata janm pawan
Pad jati meri drishti jidhar
Hansne lagti hai srishti udhar

Mein jabhi moondta hoon lochan
Chha jata charo ore maran

Baandhne mujhe to aaya hai
Janjeer badi kya laaya hai?
Yadi mujhe baandhna chahe mann
Pehle tu baandh anant gagan

Sune ko saadh na sakta hai
Wo mujhe baandh kab sakta hai?

Hit wachan nahi tune maana
Maitri ka moolya na pahchana
To le ab main bhi jata hoon
Antim sankalp sunaata hoon

Yaachna nahi ab rann hoga
Jivan jai ya ki maran hoga

Takrayenge nakshatra nikar
Barsegi bhu par wahni prakhar
Phan sheshnaag ka dolega
Vikraal kaal mukh kholega

Duryodhan rann aisa hoga
Phir kabhi na waisa hoga

Bhai par bhai tootenge
Vish-baan boond-se chutenge
Saubhag manuj ke phootenge
Vaayas shrigaal sukh lootenge

Aakhir tu bhushayi hoga
Hinsa ka par, dayi hoga

Thi sabha sann, sab log dare
Chup the ya the behosh pade
Kewal do nar na aghate the
Dhrishtrashtra-Vidur sukh paate the

Kar jod khare pramudit nirbhay
Dono pukaarte the jai-jai..

%d bloggers like this: